Raat Akeli Hai Review: Netflix India Release

Raat Akeli Hai Hindi Review
Reading Time: 3 minutes

Netflix again with ‘Raat Akeli hai’ after the ‘Bulbbul’ on 31st July 2020 release another ‘Crime and Punishment’ Genre Movie based out of Big Mansions of the elite Class of Indian Society. In both movies, women are victims and later they punish the peoples who are involved in earlier sins on them.

Honey Trehan, the first time Director like ‘Dil Bechara’ Director Mukesh Chhabra debut with ‘Agatha Christie’ Styled Investigative Dram Based in Kanpur and Lucknow of Uttar Pradesh, India.

Most of the Shot of the Movie ‘Raat Akeli Hai’ are on real locations In Kanpur, Jajmau, Kotwli, and Bithoor and Qaiserbagh Police Station, Bus Stand and Malihabad of Lucknow.

Raat Akeli Hai Cast

‘Raat Akeli Hai’ Official Trailer

Movie Story

‘रात अकेली है’ उत्तर प्रदेश के लोगो के लिए एक मानसून की छींटे है, जो की उत्तर प्रदेश की भाषा और रंग रूप में ढली एक फिल्म है, जिस में ठाकुर भी है ,कटा है ,डकैती ,पुलिस यार और कोतवाली संग ऍम.अल.ऐ (MLA) और कहानी में सैया दरोगा जो की ठाकुर की प्रेमिका से प्रेम कर बैठे है | एक भरपूर रोमांचक फिल्म है | 

‘रात अकेली है’ की कहानी में ठाकुर रघुवीर सिंह की हत्या हो जाती है उन की शादी की रात में , जब बाराती मेहमान जश्न में है ठाकुर दुनिया से चल पड़े है | तो अब बताओ खुनी कौन ?

खुनी कौन है की जांच के लिए पहुंचे इंस्पेक्टर ‘जटिल यादव’ , जिंदगी में अकेले और सफर में भी ईमानदार और मुंहफट जो दिल में वही जुबा पे | जटिल यादव को ठाकुर का परिवार की जटिलता समझ में आती है | एक रहस्य भरा  परिवार , वैसे भी कहते है ‘बड़ी बड़ी हवेलीओ में बड़े राज़ दफन है ‘, इस हवेली में भी है | 

ठाकुर की पहली बीबी की हत्या ५ साल पहली ग्वालियर से लौटते समय हो गयी थी घटना में उनका ड्राइवर भी था , ठाकुर की रखेल ‘राधा’ जिस को जटिल यादव ने आत्म हत्या करने से बचाया था ५ साल पहले आज उसी की शादी ठाकुर से हुई है जो अपने आप को अनाथ बताती है | 

राधा का प्रेम ठकुआर के भतीजे से है जिस की शादी लोकल नेता मुन्ना राजा की बेटी से होने वाली है | दामाद मिज़ाज का गरम  और अपने ही साले यानि के ठाकुर के बेटे को नशे का आदि बना दिया है सम्पति के लालच में | छूटे भाई है नहीं और उन का परिवार हवेली में नहीं रहता | 

यहाँ सभी कातिल हो सकते है | जटिल यादव हत्या की तफ़्तीश करते है तो कई नहीं कहानिया निकलती है | उन पे हमला होता है और आखिर में सब सचाई से पर्दा उठता है |

हिंदी सिनेमा देखने वालो के लिए बेहतरीन सस्पेंस फिल्मे बहुत काम है | और रात अकेली है एक बेहतरीन फिल्म साबित हो सकती है ,पर नेटफ्लिक्स का इंडियन सब्सक्राइबर पश्चिम के सिनेमा में जयादा दिलचस्पी रखता है और हिंदी सिनेमा के काम को पश्चिम से तुलना करता है जो की शायद सही नहीं है | 

‘रात अकेली है’ हमारे समाज की कुछ कुरीतिया को सामने लाया है जो की अभी भी हमारे समाज में है | वयवचारी पुरुष जो ताकत, रुतबा और दौलत के नशे में सभी हदे पार करजाते है और अपने खिलाफ उठाने वाली आवाज़ को दबा देते है और कानूनी वयवस्था भी उन्ही के साथ है | समाज में स्त्रियों को वास्तु की तरह देखना और उन की खरीद फिरोखत होना समाज पे कलंक है | 

‘Raat Akeli Hai’ Movie Review

‘Raat Akeli Hai’ is an unpredictable whodunit movie, where the family head and influential landlord murdered on his ‘wedding night’ during the wedding celebrations. 

Raghubir Singh marries his mistress who is in love with his nephew who is engaged with the area’s local MLA’s Daughter. Also, take care of his Business and all transactions. 

Raghbir Singh’s first wife was murdered 5 years ago and Son-in-Law wants the pie in his wealth earlier caught with Drugs by Police. His Daughter hates him because of his character as Cruel men and behavior as a womanizer. Other Relatives also hates him and more interested in his Property. His Mistress Radha ‘Radhika Apte’ is a victim of violence and repeated sexual assaults.

Everyone living in his mansion has the motive to kill him. The Movie cast, story, script, and direction, location as a wholesome entertainment package keeps the audience glued with act, suspense, dialog delivery. Only humor and punches were coming from Ila Arun as a Mother of Misfit Police Officer ‘Jatil Yadav’  

The omnipresence of Nawazzudin in the movie left very limited scope for others, he and his mother Ila Arun and search for the bride who later falls in love with ‘Radha’. Nawazzuddin’s role as a misfit cop engages in investigation and his encounter with people in power and his bosses are completely opposite to his role as an aspiring writer in ‘Ghoomketu’.

Facebook Comments
Our Score
Click to rate this post!
[Total: Average: ]
Jeet Dhimann

Studying Psychology, Just Another Poor Philosopher, Foodie, Netflix Fan, Food Reviewer on Zomato, Digital Marketer By Profession & Aspiring Entrepreneur. Went to Both for Studies ITI & IIT-D

READ NOW  HANNA- ‘She is Different’| Amazon Prime | Review